ZIP code kya hota hai।Full form of ZIP code।जानिए Zip कोड के बारे में सबकुछ।

ZIP code Meaning in Hindi,full form of ZIP code
Zip Code meaning in Hindi

H
ello दोस्तों कैसे हो आप।आशा करता हूं कि अच्छे ही होंगे।SaRaisay में आपका स्वागत है।इस पोस्ट में हम एक खास कॉड के बारे में जानने वाले है।जो शायद आप जानते हुए भी नहीं जानते हैं।
जी हां!आप जानते हुए भी इसका असली मतलब नहीं जानते होंगे।
आज जो टॉपिक की ऊपर हम जानने वाले है वो है Zip code।
ये खास तरीके का कोड के बारे में आपका थोड़ी बोहोत नॉलेज होनी ही चाहिए।इसी लिए इस पोस्ट में आप Zip code के बारे में पढ़के आसानी से अच्छे जानकारी ले सकते हैं।
इसीलिए इस पोस्ट को आप अंत तक पढ़ते रहिए ताकि आप Zip code के बारे में छोटी सी छोटी जानकारी भी अच्छे तरीके हैं जान सखे।
इस पोस्ट में आप जो जो जानेंगे जिसमें प्रमुख है zip code meaning in hindi,Zip code History,Zip codes uses ओर भी बोहोत कुछ।
तो चलिए बढ़ते है आगे ओर जानते हैं Zip code के बारे में कुछ जरूरी जानकारियां।

Zip Code Meaning in Hindi


Zip यानी “Zonal Improvment Plan” जो कि इसका फूल फॉर्म है।
इसे आप एक तरह pin code या postal code कह सकते हैं।लिकिन ये इंडिया के लिए नहीं है।

इसे यूनाइटेड स्टेटस ऑफ अमेरिका के लिए बनाया गया है।हालांकि इसका काम ओर Pin code के काम बोहोत ही मिलता झूलता है।
ये Zip Code अमेरिका में पोस्ट सर्विस के लिए बनाया गया है।

Read Also

Zip code फाइव डिजिट के होते हैं।
पिन कोड के तरह इसी में भी डिजिट यानी नंबर्स होते हैं जिसमें अलग अलग पोस्ट ऑफिस की पहचान आसानी से किया जाता है।
अगर आपको ओर अच्छे तरीके से समझाया जाए तो इस five digit number एक एक नंबर का अलग अलग जगह या पोस्ट ऑफिस की ओर इशारा करता है।
       मान लीजए एक five डिजिट नंबर है
                         *****
इसमें

  1.  पहला नंबर "*" अमेरिका का एक क्षेत्र कि ओर इशारा करता है।
  2. दूसरा दो नंबर "**" उस area में स्तिथ मैन पोस्ट ऑफिस के बारे में पता लगाया जा सकता है।ती
  3. तीसरा दो नंबर "**" में उस मैन post ऑफिस की अन्तर्गत कोई small पोस्ट ऑफिस या ऑफिस ओ का जानकारी रहता है।

Zip code के आविष्कार होने के बाद Zip+4 का भी इस्तमाल होने लगा था।
Zip+4 में ओर भी अच्छे से Delivery जगह का पता लगाया जा सकता है।
जिसमें 5 डिजिट के साथ ओर भी 4 डिजिट जोड़ा गया था।
ओर उस नए चार डिजिट में—
  1. पहला दो नंबर में किसी डिलीवरी जगह का पता होता है।ये डिलीवरी जगह कुछ भी हो सकता है।जिसमें ऑफिस,अपार्टमेंट,बिल्डिंग सामिल है।
  2. ओर बाद के दो नंबर उसी ऑफिस,अपार्टमेंट,बिल्डिंग floor की ओर इशारा कर ता है।

अगर आप इंडिया कि पिन को देखेंगे तो इसमें 6 डिजिट ही होते हैं।हालांकि इसका काम Zip code की जैसा ही है।

Zip code की पहला नंबर अमेरिका के अंदर अलग अलग क्षेत्र कि ओर इशारा करता है।
जिसमें 1 से 9 तक का नंबर सामिल है।ओर ये नंबर अमेरिका के अलग अलग जगह के लिए अलग अलग होता है।
अगर इंडिया कि पिन कोड की बात करे तो उसमे भी पहला नंबर 1 से 9 तक होता है।
जिसमें 1 से 8 इंडिया के अलग अलग स्टेट ओर केंद्रशासित प्रदेशों के लिए होता हो,ओर लास्ट की नंबर 9 इंडियन आर्मी के लिए होता है।


Zip code की सुरबात कब हुआ?


विकिपीडिया की मुताबिक Zip Code अमेरिका में पहली बार 1st july ,1963 में शुरू किया गया था।
जिसके बाद से ये अमेरिका का USPS यानी United States Postal Service की काम काज को ओर भी आसान बना दिया।
धीरे धीरे इसकी इस्तमाल होते होते इसमें बोहोत से खामियां महसूस किया गया,ओर बाद में(1983 में) इसको 5 डिजिट के जगह 9 डिजिट का कर दिया गया।यानी ओर 4 डिजिट जोड़ दिया गया।

जिसके वजह से इसमें ओर भी संपूर्णता आया।
आविष्कार को ले कर Zip code के बारे में बोहोत तथ्य ऐसे भी है जिसमें दावा किया जाता है कि इसको world war II के द्वरान पहली बार सुरबऻत किया गया था।

Zip Codes के uses


जैसे कि हम इस पोस्ट Zip code meaning हिंदी पर ही जान चुके थे कि ये एक postal code है जिसमें किसी को पत्र भेजने के लिए खास तर पर ये काम आता है।
हालांकि मेल भेजने को छोड़ कर भी ये Zip कोड, मार्केटिंग में भी काम आता है।
Zip code खास तर पर यूज किया जाता है किसी मेल को ट्रैक करने के लिए ओर उससे जुड़ी डाटा इकट्ठा करने के लिए।
Zip code का इस्तमाल ओर पिन code का इस्तमाल में बोहोत अंतर नहीं है।
USA में एक Zip कोड की भूमिका, India में एक पिन code के बराबर ही होता है।

Conclusion


Zip कोड सिर्फ ओर सिर्फ USA के लिए ही होता है।
इंडिया में Zip कोड इस्तमाल किया नहीं जाता।भारत में सिर्फ सिक्स डिजिट का Pin Code ही चलता है।
अब शायद आप समझ चुके हैं कि Zip code क्या होता है।अगर आप इस पोस्ट पढ़के थोड़ा सा भी ज्ञान पाए है,तो कृपा इस पोस्ट को अपने whatsapp में जरूर शेयर करें।
इस ब्लॉग नोटिफिकेशन पाने के लिए ब्लॉग कि नोटिफिकेशन setting ओन करदे ताकि सबसे पहले हमारे नया आने वाली पोस्ट को आप पढ़ सके।
आप SaRaisay को instagram या twitter में भी follow कर सकते हैं future नोटिफिकेशन पाने के लिए।ओर आपको ये पोस्ट कैसा लगा कॉमेंट में जरूर बताएं।
आशा है आप ऐसे ही हमारे ब्लॉग पर आते रहेंगे।
तो आजके लिए इतना ही आपसे फिर मुलाकात होगा एक नए ओर knowledgefull पोस्ट के साथ।
तब तक के लिए खुश रहिए,मजे में रहिए।
                     जय हिंद
                          बंदे मातरम......

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां